Limitations Of Accounting In Hindi ?

Hello दोस्तों ! Accounting Seekho में आपका स्वागत है। आज के इस article में हम जानेंगे Limitations Of Accounting In Hindi (लेखांकन की कमियों) के बारे में यानी Accounting की कौन-कौन से कमियाँ होती हैं,इससे पहले के article में हम Advantages Of Accounting (लेखांकन के लाभ) के बारे में समझे थे, आप चाहें तो इस article को भी link पर click करके पढ़ सकते हैं। आज के article को पूरा ज़रूर पढें जिससे कि Limitations Of Accounting के बारे में आपको समझने में आसानी हो।

लेखांकन की कमियाँ निम्नलिखित हैं –

1 – Accounting is not fully exact –

Accounting exact नहीं होती है इसमें हम Profit या Loss को बस estimate ही कर सकते हैं या अनुमान लगा सकते हैं। हम accounting में कुछ चीजें अनुमान के हिसाब से ही करते हैं इसलिए हमारी Accounting exact नहीं होती है जो भी profit निकल कर आता है उसे exact figure नहीं मान सकते हैं।

2- Accounting does not indicate the realisable value –

Accounting किसी assets को बेचने से जो income हुई है इसकी value को show नहीं करती है, जैसे company ने Rs. 10,000 की कोई assets sell की है और उसे Rs. 10,000 मिला है पर वह cash कम्पनी की Balance Sheet  में नहीं दिखाया जाता है यानी कि जब भी कोई assets sell की जाती है तो उसकी amount को Balance sheet में नहीं लिखते हैं।

ऐसा इसलिये किया जाता है क्योंकि assets को business में use करने के लिए purchase किया जाता है न कि उसे बेचने के लिए। इसलिये इनकी value को written down करते हैं मतलब depreciation charge करके इसके value कम की जाती है।

Limitations Of Accounting In Hindi

3- Incomplete  Information –

Accounting से हमें complete information नहीं मिलती है। जो भी information provide होती हैं वह पूरी नहीं होती हैं। business के actual profit or loss को हम तभी जान सकते हैं जब business close करेंगे या shut down होगा तभी सारी detail का पता चलेगा।

इस तरह जो yearly profit निकल कर आता है वह तो बस estimate किया हुआ ही होता है।

4 – Affected by Window Dressing –

Window Dressing का मतलब company या firm के जो account हैं उन्हें manipulate करना या change करना है ताकि उस business को better position में show किया जा सके और उसकी financial position अच्छी दिखे।

अब information को ही जब correct show नही करेंगे तो Profit And Loss A/c से जो profit show करेगा वह true and fair नही होगा साथ ही balance sheet जो financial position को show करेगी वह भी exact नही होगी तो account बनाने का कोई फायदा ही नही होगा।

5- Unsuitable for forecasting –

जब हम accounting में अपने data को record करते हैं तो वह बस past के जो event हुए होते हैं उन्हें record करते हैं यानी जब transaction हो जाते हैं तब जाकर हम record करते हैं।

इस तरह accounting की एक कमि यह है कि इन past के events का हम financial analysis करके forecasting नहीं कर सकते हैं कि next year इतने transaction हो सकते हैं या इतना profit हो सकता है।

 

दोस्तों आज के इस article में इतना ही,उम्मीद करता हूँ आपको Limitations Of Accounting In Hindi (लेखांकन की कमियां) के बारे में समझ में आ गया होगा। इसे Facebook या Whatsapp के through अपने दोस्तों को भी Share करें। अगर आप Introduction Of Accounting In Hindi या फिर Advantages of Accounting In Hindi के बारे में भी जानना चाहते हैं तो इस पर Click करके आप इसके बारे में भी अच्छे से समझ सकते हैं।

अगर आप हमारी Website Accounting Seekho की Latest Update पाना चाहते हैं तो हमारे Facebook Page को Like करें ताकि New Article की Notification आपको मिलती रहें। हमारे इस article को अपना कीमती समय देकर पढ़ने के लिए धन्यवाद, आपका दिन शुभ हो।

Leave a Reply

%d bloggers like this: